अजिंक्य रहाणे की कप्तानी के मुरीद हुए ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान, बोले- जन्मजात नेतृत्वकर्ता

[INSERT_ELEMENTOR id="7393"]

अजिंक्य रहाणे की कप्तानी के मुरीद हुए ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान, बोले- जन्मजात नेतृत्वकर्ता

विराट कोहली की अनुपस्थिति में भारतीय टेस्ट टीम की कप्तानी कर रहे अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) ने अपने दम पर दूसरे टेस्ट में टीम को जीत दिलाई.

Written By WolfNewz Editorial | Updated: January 03, 2021 6:30 PM IST

Ajinkya Rahane
अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane)

विराट कोहली की अनुपस्थिति में भारतीय टेस्ट टीम की कप्तानी कर रहे अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) ने अपने दम पर दूसरे टेस्ट में टीम को जीत दिलाई. इस मैच में ना उन्होंने शानदार जमाया बल्कि शानदार कप्तानी भी की. अब अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) की तारीफ में ऑस्ट्रेलियाई टीम के पूर्व कप्तान इयान चैपल (Ian Chappell) ने कसीदे पढ़े हैं. रहाणे को जन्मजात नेतृत्वकर्ता करार देते हुए आस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल ने मेलबर्न टेस्ट में भारत की जीत का श्रेय बल्ले से उनके उपयोगी योगदान के अलावा चतुराई से भरी साहसिक कप्तानी को दिया.

 

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

 

A post shared by Ajinkya Rahane (@ajinkyarahane)

अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) को लेकर इयान चैपल (Ian Chappell) ने ईएसपीएनक्रिकइन्फो में अपने कॉलम में लिखा: इसमें कोई हैरानी नहीं कि अजिंक्य रहाणे ने एमसीजी (मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड) पर शानदार तरीके से भारत की अगुवाई की. जिस किसी ने भी 2017 में धर्मशाला में उन्हें कप्तानी करते हुए देखा होगा वह पहचान गया होगा कि उनका जन्म क्रिकेट टीमों का नेतृत्व करने के लिये हुआ है. धर्मशाला में 2017 में खेले गये टेस्ट मैच में भारत ने चौथे टेस्ट मैच में आठ विकेट से जीत हासिल करके चार मैचों की श्रृंखला 2-1 से जीती थी. भारत ने तब भी लक्ष्य का पीछा किया था और रहाणे 38 रन बनाकर नाबाद रहे थे.

इयान चैपल (Ian Chappell) ने लिखा: “एमसीजी में खेले गये मैच और 2017 के मैच में काफी समानताएं हैं. पहला यह उन्हीं दो बेहद प्रतिस्पर्धी टीमों के बीच खेला गया था, दूसरा रविंद्र जडेजा ने पहली पारी में निचले क्रम में उपयोगी योगदान दिया था और तीसरा रहाणे ने कम लक्ष्य के सामने दबाव वाली परिस्थितियों में आक्रामक बल्लेबाजी करके जरूरी रन जुटाये.” उन्होंने कहा, “रहाणे ने धर्मशाला में तब मेरा ध्यान अपनी तरफ खींचा था जब उन्होंने अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे बायें हाथ के कलाई के स्पिनर कुलदीप यादव को गेंद सौंपी जबकि तब डेविड वार्नर और स्टीव स्मिथ ने शतकीय साझेदारी कर रखी थी. मुझे लगता है कि यह साहसिक कदम था और यह बेहद अच्छा साबित हुआ. यादव ने जल्द ही वार्नर का विकेट लिया जिससे आस्ट्रेलियाई पारी लड़खड़ा गयी थी.” बता दें कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 7 जनवरी से तीसरा टेस्ट खेला जाएगा.

[INSERT_ELEMENTOR id="7318"]
[INSERT_ELEMENTOR id="7342"]
[INSERT_ELEMENTOR id="7072"]