[INSERT_ELEMENTOR id="7377"]

कोरोनावायरस के बढ़ते प्रभाव से परेशान हुआ WHO, कहा-महिलाओं, बच्चों और युवाओं पर...

भारत सहित पूरी दुनिया में कोरोनावायरस (Coronavirus) का आतंक लगातार बढ़ता ही जा रहा है. शनिवार को भारत में 11,458 नए मामले दर्ज किए गए.

Written By The Wolf Newz Editorial | Updated: June 13, 2020 12:31 PM IST

Coronavirus
विश्व स्वास्थ्य संगठन (फोटो:https://twitter.com/WHO/status)

भारत सहित पूरी दुनिया में कोरोनावायरस (Coronavirus) का आतंक लगातार बढ़ता ही जा रहा है. शनिवार को भारत में 11,458 नए मामले दर्ज किए गए. महज 24 घंटे में सामने आए मामलों की ये अब तक की सबसे बड़ी संख्या है. स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों में कहा गया है कि इन्हीं 24 घंटों में 386 लोगों की जान भी इस घातक वायरस के कारण गई. वहीं दुनिया के आंकड़ों की बात करें तो इस वायरस से संक्रमितों की संख्या बढ़कर 76 लाख से अधिक हो गई है, जबकि मरने वालों की संख्या 425,000 को पार कर गई है. अब इस पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने चिंता जताई है.

कोरोनावायरस (Coronavirus) के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि वह महिलाओं, बच्चों और युवाओं पर कोरोनावायरस के प्रभाव को लेकर ‘विशेष रूप से चिंतित’ है. शुक्रवार को जिनेवा से एक वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ट्रेडोस अडेहनोम गेब्रेयसस ने कहा कि इन समूहों पर कोरोना का अप्रत्यक्ष प्रभाव वायरस से होने वाली मौतों की संख्या से अधिक हो सकता है. उन्होंने कहा, “क्योंकि महामारी ने कई जगहों पर स्वास्थ्य व्यवस्था को चरमरा दिया है, महिलाओं के गर्भावस्था और प्रसव की जटिलताओं से मरने का खतरा बढ़ सकता है.”

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) प्रमुख ने कहा कि डब्ल्यूएचओ ने महिलाओं, नवजात शिशुओं, बच्चों और युवाओं सहित आवश्यक सेवाओं को बनाए रखने के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं और सामुदायिक गतिविधियों के लिए दिशानिर्देश व मार्गदर्शन तैयार किया है. बता दें कि इस वायरस के कारण पूरी दुनिया परेशान है. सारे काम धंधे चौपट हो रहे हैं. अभी तक इस वायरस की वैक्सीन भी नहीं बन पाई है. कुछ देश इसको बनाने का दावा जरूर कर रहे हैं, लेकिन आने वाले दिनों में ही पता चलेगा कि सच्चाई क्या है.

[INSERT_ELEMENTOR id="7318"]
[INSERT_ELEMENTOR id="7342"]
[INSERT_ELEMENTOR id="7072"]